रचनाएँ

सोमवार, 11 मई 2009

काश दुनिया कंप्यूटर होती

काश ये दुनिया कंप्यूटर होती
जिसमें डू को अन्डू करते

सुख के लम्हे सेव हो जाते
दुःख के लम्हे डिलीट करते

मर्ज़ी की मनचाही विन्डोज़
जब चाहे हम ओपन करते

मुस्तकबिल के ताने बने
अपनी चाह से ख़ुद ही बनते

ख्वाहिसों की होती फाइल
जिसमें कट और कॉपी करते

जब भी होती वायरस पीडा
दुनिया को रिफोर्मेट करते

खुशियों के रगों को लेकर
फीके लम्हे रंगीन करते

काश ये दुनिया कंप्यूटर होती
तो मज़े मज़े मैं दुनिया जीते

निर्भय जैन

3 टिप्‍पणियां:

M Verma ने कहा…

जब भी होती वायरस पीडा
दुनिया को रिफोर्मेट करते
बहुत खूब नए नज़रिये के लिये बधाई सही सोच है शायद दुनिया मे इतने तरह के भयानक वायरस आ चुके है कि इसे रिफार्मेट करने की ही आवश्यकता है

संगीता पुरी ने कहा…

निर्मल जैने जी , क्‍या यह कविता आपने लिखी है ?

niraj bhagat ने कहा…

अरे हाँ जी

 

Softwares

इन्हें भी देखे

Registration on my Blog

Name:
Email Address:
Blog Url
Contact No.
RSS or ATOM feed of your blog

form mail

ब्लॉग सूची