रचनाएँ

मंगलवार, 17 नवंबर 2009

हाय मेरी किस्मत


स्वर्ग और नरक के बीच में लटक गया
क्या करू अब मै जमी पर अटक गया
निकला था मैं स्वर्ग जाने को मगर
जाने कैसे रास्ता मैं भटक गया

किए थे कई पुण्य पिछले जन्म मे मैंने
उनके फल से स्वर्ग का टिकट कट गया
जाने कौनसा पाप बीच मे गया
रस्ते मे ही मेरा भेजा सटक गया

स्वर्ग जाना था मुझे, पर ये क्या होगया
जाने कौन मुझे इस धरती पर पटक गया
शायद स्वर्ग किस्मत को मंज़ूर नही था
इसलिए मैं स्वर्ग और नरक के बीच लटक गया

6 टिप्‍पणियां:

Nirmla Kapila ने कहा…

ांच्छा है न पृत्वि पर अटक गये कम से कम हमे एक कविता तो पढने के लिये मिली। बहुत बहुत बधाई स्वागत है आपका पृथ्वि पर हम सब के बीच

Mithilesh dubey ने कहा…

बहुत खुब, बहुत बढ़िया लगी आपकी ये रचना । बधाई

राकेश जैन ने कहा…

funny

Udan Tashtari ने कहा…

वाह जी, ये अंदाज भी निराला है...अब तो अटक ही गये. :)

अजय कुमार ने कहा…

स्वर्ग और नरक के बीच लटकते रहिये और बीच बीच मे ऐसे ही कविता पटकते रहिये

tulsibhai ने कहा…

" bahut hi badhiya rachana "


------ eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

 

Softwares

इन्हें भी देखे

Registration on my Blog

Name:
Email Address:
Blog Url
Contact No.
RSS or ATOM feed of your blog

form mail

ब्लॉग सूची