शनिवार, 21 मार्च 2009

सासू स्तोत्र

http://www.mantramom.com/uploads/image/prayerpose.jpg

दोहाः मेरे पति की मात हे सदा करव कल्याण..

तुम्हरी सेवा में न कमी रहू हरदम रखूं ध्यान//

जय जय जय सासू महरानी हरदम बोलो मीठी वाणी.

तुम्हरी हरदम करवय सेवा फल पकवान खिलाउब मेवा//

हम पर ज्यादा करो न रोष हम तुमका देवय न दोष.

तुम्हरी बेटी जैसी लागी तुम्हारी सेवा म हम जागी//

रूखा-सूखा मिल के खाबय करय सिकायत कहू न जावय

पति देव खुश रहे हमेशा उनके तन न रहे क्लेशा.

इतना वादा कय लिया माई फिर केथऊ कय चिंता नाही//

जीवन अपना चम-चम चमके फूल हमरे आंगन म गमके.

जैसी करनी वैसी भरनी तुम जानत हो मेरी जननी//

संस्कार कय रूप अनोखा कभौ न होय हमसे धोखा.

हसी खुशी जिनगी बीत जाये सुख दुख तो हरदम आये//

दोहाः रोग दोष न लगे ई तन मा.जाता रहे कलेश

सासू मॉ की सेवा जो करे खुशी रहे महेश..

बोलो सासू माता की जै,,


http://www.hindu.com/mp/2006/01/24/images/2006012400370101.jpg

कोई टिप्पणी नहीं:

 

Softwares

इन्हें भी देखे

Registration on my Blog

Name:
Email Address:
Blog Url
Contact No.
RSS or ATOM feed of your blog

form mail

ब्लॉग सूची